Tag Archives: bird sanctuaries

Perfect host for a birding trip


Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

For many people visiting to a wildlife sanctuary or a national park, what matters most is a good trip to the park, but it certainly helps if you get a comfortable place of stay after a tiring trip to park. Sunbird  hotel at Bharatpur gives many reasons for a pleasant stay.

Outside the rooms said to be two best on the property

Too many plus for a hotel which normally won’t fall into the big brand category. Actually, to my surprise it was few of those hotels which hardly gave any reason to complain or even dissatisfied with. When we checked in, the staff said that we were being given the two best rooms in the property and we couldn’t have disagreed. For a place like Bharatpur, this hotel has one of the best location you can ask for. Property is just five minutes walk from the main gate of Bird sanctuary.

Hotel is located in the area called as Saras circle and most of the hotels in Bharatpur catering to tourists coming to bird sanctuary are in the same area.

Spacious room with an extra bed

We booked two rooms and had asked for extra beds in both the rooms at he time of online booking. To my pleasant surprise, at the time of check-in the extra beds were already in place in both the rooms. My experience so far, even at many five star hotels has been that they will place the extra bed only by late in the evening. But here, they were already in place. It actually helped all of us to immediately stretch ourselves after a long road journey.

A garden right in front of our rooms

Rooms were very spacious, clean and good. Right in front of our rooms was a beautiful garden that constantly gave us a nice cosy feeling of being close to a bird sanctuary. Actually, whenever we stepped out of room, we felt like having a slice of the bird sanctuary. Full marks to design of the hotel in this regard. You might feel like seating outside your room lazily on a chair and enjoy the surroundings or just read a book.

A meeting room in the garden

Actually from outside, you don’t get the feel of the property. You just can’t imagine that it would be so big inside. But once you move inside further from the lobby, you get to see the space. There are four cottages around this garden and four rooms including the two deluxe rooms we stayed in.

One of the cottage around garden

Rooms are neat and clean with wardrobe, study table, a sofa, safe and tea-coffee maker and a 32 inch LCD television, but you hardly feel like switching the TV on in this place.

Another view of the room

Hotel has been aesthetically designed with traditional Rajasthan interiors. Moreover, rooms have photographs or beautiful pencil sketches of various birds found inside the Bharatpur sanctuary. It always gives you a feeling of the place you are in.

Photos and sketches of birds in the rooms

As far as food is concerned, we didn’t have meals here, so can’t say anything about it. But buffet breakfast was part of the tariff, so we had it on all days and was satisfactory. It has to be acknowledged that it is tough for a hotel to manage breakfast when it is so close to a wildlife sanctuary, because most guests will be either having an early breakfast before going to the bird sanctuary or will have a late breakfast after returning from sanctuary. But staff managed it very calmly and kept fulfilling all requirements. But having said that, food is perhaps the only department where they need to improve a bit.

Staff was in general very courteous and forthcoming. Overall stay gave us a relaxed feeling. Surely looking for another visit.

Location: Hotel is located at Saras circle which comes as soon as you enter the Bharatpur city. While coming from Fatehpur Sikri, when you reach Saras circle a road goes straight into the city and another one, the Agra-Jaipur national highway turns left. Hotel Sunbird is just 100 metres away from the circle on this road. Main gate of bird sanctuary is further 200 metres from the hotel.  Fatehpur Sikri is just 20 kms from Bharatpur.

P.S. Bharatpur doesn’t have too many good independent restaurants. Most of talked about restaurants are attached to one or another hotel. We tried to find some independent good food options, but were not satisfied. You need to keep that in mind.

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

Advertisements

The giant turtles of Keoladeo national park

Keoladeo Ghana National Park at Bharatpur has been the earliest and most popular of bird sanctuaries in India so much so that until few decades back whenever plans to visit a bird sanctuary will come in mind, name Keoladeo used to prop up almost instantly. But this park, popular for its cranes and once a critical wintering ground for endangered Siberian cranes, is also known for its giant soft shelled turtles. Park has seven species of turtles.

The number of turtles is very good, in few hundreds. There are many myths and folklores associated with these turtles, but indeed there lifespan is very good. In that sense many turtles here are said to be living here for more than couple of hundred years. Now the catch is that this park doesn’t have perennial source of water. It depends lot on monsoon rains and water sourced from near by reservoirs through canals. So when water gets dried up, turtles move towards a pond located besides a historical temple situated right at the second barrier of the park.

Watching turtles at this pons is an exhilarating experience. There is a temple complex, an ashram adjacent to the pond.

Temple complex
There are big numbers of monkeys in the complex as well

There are stairs going to the pond from the temple side. The caretakers of the temple often feed turtles with wheat flour in attempt to bring them towards the stairs for exciting tourists to see them. In return, tourists will pay them tip for their efforts.

Temple caretaker luring turtles with wheat flour

Its fun to watch this lovely creature coming up to the stairs to get some quick food. They are different in age and sizes. Often more than one will come to the stairs.

Three turtles on the stairs

For me personally, it was first time to watch these turtles so closely and it was very exciting to photograph them. Monkeys around the temple often bring a twist to the tale, when they loot the bounty meant for the turtles. Its thoroughly entertaining.

Looting the bounty
Keeping a close eye on the proceedings
Filled in both hands… still looking for more

But despite these side-artists, the main character is still the turtle. Here comes one :

Swimming towards stairs
Gets his food and pulls himself back

Getting some close shots was fascinating, like this one-

…and this one too:

Putting its neck back into the shell…

A closer look of feet and the eyes:

Here comes another turtle to give an audience and also gives a glimpse of its size-

…same way to retreat back, what a power nature has given to this creature-

Holding its food in the mouth…

Neck looks so decorated…

You can spot turtles in the national park at many other places as well. You need not essentially go to the pond to see them…

Enjoying some sun
A bigger one…

In other water bodies of the park..

So, next time you go to the Keoladeo National Park in Bharatpur don’t forget to give some of your time to this lovely creature as well.

Where: Keoladeo Ghana National Park (erstwhile  Bharatpur Bird Sanctuary)  is located in Bharatpur city of Rajasthan. Park boundaries almost touch the Rajasthan-Uttar Pradesh border. Park is just 20 kms from Fatehpur Sikri and 65 kms from Agra. Park gates are located right on the  Agra-Jaipur National highway. The turtle pond, as it is famously known is just a kilometre from the park gate and left of the second barrier, which actually is the entrance to the park.

 

Kadalundi Bird Sanctuary : A gem yet to be polished

Honestly, I had high hopes when I went to Kadalundi. It was one of the places which I had planned to visit during a very small leisure window on my visit to Kozhikode (erstwhile Calicut). It was late November and I could not have missed watching and photographing a few migratory birds. But, it was a disappointing outing.

Kadalundi1

Spread over a cluster of islands, this sanctuary is said to be the abode for more than a hundred species of native birds and 60 species of migratory birds. The area where Kadalundi river flows into the Arabian sea  is surrounded by hillocks. These hillocks besides creating a scenic environment also give a splendid view of the sanctuary, river mouth and the sea. Even the  main railway line to Trivandrum passes through the sanctuary.

Kadalundi2

Kadalundi also has a mangrove vegetation which is said to shelter otters and jackals. It is also known for a wide variety of fish, mussels and crabs.

Kadalundi3

Among the migratory birds which are supposed to abode here are seagulls, terns, sandpipers, sandplovers, red and greenshanks, turnstones etc. But when I reached the sanctuary, I was the only tourist to have come there. The office there was closed. There was nobody to give any information. After a while a person supposedly from the office came and I was barely able to communicate with him because of his poor English and my poor (??) Malayalam. He told me that there were no birds at that time because they have not yet arrived because of ‘climate change’.

I was able to get  boat for ride inside the water, but it would take me only to the mangrove side as the other side with presumable some birds had very shallow water and boat couldn’t have transversed that. So, what could I manage to see were some Ibis-

Some herons- white and grey, some common egrets and few other birds-

It was also pleasing to capture some of them in their flight-

 

More pleasing for me was to capture the Brahminy Kite in its full glory-

Where: Kadalundi Bird Sanctuary is around 20 kms from Kozhikode town. You can either take buses from Kozhkode to Kadalundi (near railway station) and then walk to sanctuary near by. Otherwise you can take auto rickshaw or a taxi as well from Kozhikode to Kadalundi. Kadalundi also has a railway station where only passenger trains halt. On normal days boats should be available to take you inside the sanctuary for closer bird and mangrove watching. One might have to bargain for boat rates. It can be some 500 INR for half  hour to 45 minutes.

Nice place to be but need to check pre-hand if migratory birds are there. Best time to visit is from November to April.

No nearby places to stay and accommodation has to be managed in Kozhikode itself. There are few other things to be seen on the way from Kozhikode to Kadalundi including famous Beypore port.

Delhi always gives best to you: An ideal weekend!

Humayun's Tomb is considered by many as an inspiration to Taj Mahal
Humayun’s Tomb is considered by many as an inspiration to Taj Mahal

However busy the national capital might be, it always gives you a break- to relax, enjoy and be yourself. As it is always said that Delhi is for the ones with heart (Dil walon ki Dilli– what is termed in Hindi). So even if you may not find snow clad mountains or sandy beaches or even dense forests but still you can have some perfect weekend trips to the heart of the nation. More so, if you find a host as hospitable as a Club Carlson hotel. So, come let’s plan an ideal weekend trip to Delhi.

Shrine of sufi saint Hazrat Shaikh Khwaja Syed Muhammad Nizamuddin Auliya
Shrine of sufi saint Hazrat Shaikh Khwaja Syed Muhammad Nizamuddin Auliya

Culture and heritage is something that is unique to any place. Despite having a cosmopolitan nature of society, Delhi has a very rich culture and a heritage which dates more than thousand years. Having seen so much turmoil, upheaval and rulers- Delhi now has a habit of welcoming anything new with open hands, giving it a space and still retain its distinctive features which had been backbone of its culture for centuries. Therefore, first and foremost idea should be to relive that culture. Now revisiting that too has two parts, first to have a glimpse of history through the monuments- first the Red fort which has been always closely associated with country’s seat of power, secondly UNESCO World Heritage site of Humayun’s Tomb which is an architectural delight and to some an inspiration for great Taj Mahal and next is medieval marvel of Qutub Minar, a minaret which is just not any ordinary historical monument but along with Ashoka’s pillar located just in front of it, a symbol of India’s might in science, design and architecture. Though there are many monuments in Delhi, but these three are representative of them in three distinct manners. Starting the day with Red fort in old Delhi, we can come to Humayun’s tomb in the central part and then end the day in south at Qutub Minar in Mehrauli. In the evening spare some time to visit the shrine of sufi saint Hazrat Shaikh Khwaja Syed Muhammad Nizamuddin Auliya at Nizamuddin and get yourself soaked in spiritual fervour by listening to devotional sufi music and qawwali. He had been the patron saint of Delhi’s Mughal dynasty.

Segaway tours are new to India
Segaway tours are new to India

Start the next day with an early morning tour of Lutyen’s Delhi on a Segaway, a new entrant to Delhi’s tourist circuit. This almost an hour tour takes you on a round of the area from Rashtrapati Bhawan to India Gate and back in a unique way on a Segaway Personal Transporter. Come back to your hotel, have your breakfast and start afresh. Devote your day to enjoyment of Delhi’s cultural heritage. They might be bit spicy or calorie rich but don’t give some delicacies a miss. Start your gourmet trip from Chandni Chowk in Old Delhi. Gali Paranthe Wali has some shops serving paranthas for more than a century now. Go to Fatehpuri to taste some finest Lassi India has to offer. Karim’s near Jama Masjid serves some most delicious Mughlai delicacies. In the evening treat yourself to another spiritual evening by visiting Akshardham temple at the banks of Yamuna river. Even if you are not of a spiritual type, you will certainly admire the recreation of India’s architectural past. This temple gives a glimpse of India’s prehistoric culture. A sound and light show, that takes place in the evening is not to be missed, which is actually a musical fountain show with a story of founder of Akshardham sect in the tandem. If you are really interested in historical sound and light shows, then Delhi has two of them- one at the Red Fort and another at the Old Fort near zoo. Both give an idea of Delhi’s tumultuous past. Perfectly enjoyable.

Migratory Birds at Sultanpur Lake
Migratory Birds at Sultanpur Lake

Save your last day for some adventure activity in and around Delhi. If you are a wildlife lover, I will suggest you to take a trip to Sultanpur Bird Sanctuary in Gurgaon which is very close to Delhi. It is a beautiful place to see migratory birds considered to among the top bird sanctuaries in India. Approximately 250 species of Birds are found at Sultanpur Bird Sanctuary. Some of them are resident, while others come from distant regions like Siberia, Europe and Afghanistan. Specially in winter Sultanpur Bird Sanctuary provides a picturesque panorama of migratory birds. Sultanpur can be accessed by buses and taxis from Delhi and Gurgaon. Sanctuary is located at 40 kms distance from Dhaula Kuan in Delhi and 15 km from Gurgaon on the Gurgaon-Farukh Nagar Road. But if you are looking for some hard adventure, then go a bit further to Neemrana for a zipping session at Flying Fox, fit enough to pump up your adrenaline. Come back in the evening to the city get some quick bargains to Delhi’s all-famous flea markets at Janpath, Palika Bazar and Karol Bagh and in the end calm your senses by a walk to the Garden of Five Senses.

Souvenir market at Red Fort
Souvenir market at Red Fort

But that might still be not enough to experience what all Delhi has to offer. Better to leave something fo

r the next time. There are many more weekends we can plan. Till then… Good Bye!

परदेसी परिंदों के नजारे

A migratory sea-gull
A migratory sea-gull

हवा में ठंडक कम हुई है। लेकिन सर्दी अभी गई नहीं है। हजारों किलोमीटर दूर सुदूर उत्तर के यहां से भी ज्यादा ठंडे इलाकों से प्रवासी पक्षी भारत में कई जगहों पर अभी बसेरा बनाए हैं। ऐसा वे हर साल करते हैं। बड़ी लंबी व दुष्कर उड़ान के बाद उनका अपने तय ठिकानों पर हर साल आना, वाकई कुदरत का बड़ा हैरतअंगेज करिश्मा है। अब जरा कल्पना कीजिए कि साइबेरिया (रूस, चीन व उत्तर कोरियाई इलाकों) के अमूर फॉल्कन हर साल 22 हजार किलोमीटर दूर अफ्रीका में प्रवास के लिए जाते हैं और इस दौरान वे बीच में भारत के उत्तर-पूर्व में नगालैंड में थोड़ा आराम करते हैं। यहां से अफ्रीका जाने के लिए यह पक्षी समुद्र के ऊपर चार हजार किलोमीटर की उड़ान बिना रुके भरता है। ऐसे ही कई पक्षी भारत में प्रवास के लिए आते हैं। दुनियाभर के पक्षी प्रेमी इस मौसम में भारत आते हैं, परिंदों की इस खूबसूरत दुनिया का नजारा लेने के लिए। बर्ड वाचिंग के शौकीनों के लिए भारत में कई जगहें हैं जहां वे दुर्लभ प्रवासी पक्षियों का नजारा ले सकते हैं। उनके घर लौटने में बस कुछ ही दिन बचे हैं। लिहाजा एक झलक उनमें से कुछ खास जगहों कीः

भरतपुर का घना

Bharatpurआगरा-जयपुर राजमार्ग पर आगरा से महज 55 किलोमीटर दूर राजस्थान में भरतपुर का केवलादेव घना पक्षी अभयारण्य है। कई लोग इस दुनिया का सबसे खूबसूरत, शानदार व संपन्न पक्षी विहार मानते हैं। दुनियाभर के पक्षी प्रेमियों व पक्षी विज्ञानियों के लिए यह किसी मक्का से कम नहीं है। वैसे तो यह पक्षी अभयारण्य है लेकिन आपको यहां कई और किस्म के वन्यप्राणी भी मिल जाएंगे। कई बार तो साथ ही लगे रणथंबौर से बाघ भी भटकते हुए यहां पहुंच जाते हैं। वैसे यहां अन्य कई जानवरों के अलावा पक्षियों की 366 प्रजातियां, फूलों की 379 किस्में, 50 तरह की मछलियां, सांप की 13 प्रजातियां, छिपकलियों की 5 प्रजातियां और कछुए की 7 प्रजातियां रिकॉर्ड की गई हैं। यहां की वनस्पतीय विविधता ही शायद अलग-अलग तरह के जीवन के लिए अनुकूल भी है। इन्हीं विशेषताओं के चलते इसे प्राकृतिक स्थानों की यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में भी शामिल किया गया है।

ढाई सौ साल पहले बने इस अभयारण्य का केवलादेव नाम पार्क में मौजूद शिव के प्राचीन मंदिर पर रखा गया है। 19वीं सदी के अंतिम दशक में भरतपुर के महाराजा ने खुद इस क्षेत्र का विकास किया। पहले यहां जंगल व बंजर भूमि थी। गड्ढों में बारिश का पानी इकट्ठा हो जाता था तो वहां पक्षी डेरा डालने लगते थे। तब राजघराने के लोगों ने पास में बहने वाली गंभीर नदी के पानी को नहरों के जरिये इस इलाके में पहुंचाया जिससे यहां नम इलाका और कम गहरी झीलें बन गईं। धीरे-धीरे यही परिंदों की सैरगाह बनने लगी। राजघराने के लोग और अंग्रेज पहले यहां शिकार किया करते थे। 1956 में इसे अभयारण्य और फिर 1981 में इसे नेशनल पार्क बना दिया गया। पक्षियों की इस सैरगाह में देशी-विदेशी साढ़े तीन सौ से भी ज्यादा प्रजातियों के पक्षी शरण लेते हैं। इनमें एक-तिहाई संख्या प्रवासी पक्षियों की है। इन प्रवासी मेहमानों में से ज्यादातर छह हजार किलोमीटर का सफर तय करके साइबेरिया व मध्य एशिया के बाकी देशों से सर्दियों की शुरुआत में आते हैं और अप्रैल में फिर से अपने इलाकों को लौट जाते हैं। हालांकि देशी प्रवासी पक्षी यहां बारिशों के बाद से ही आना शुरू हो जाते हैं। कई प्रकार के सारस, पेंटेंड स्टॉर्क, ग्रे हैरॉन, ओपन बिल, स्पून बिल, व्हाइट इबिस, सरपेंट ईगल आदि यहां देखे जा सकते हैं।

कब, कहां व कैसेः राजस्थान के भरतपुर में स्थित केवलादेव घना नेशनल पार्क दिल्ली से लगभग पौने दो सौ किलोमीटर दूर है। नवंबर से मार्च तक का समय प्रवासी पक्षियों को देखने के लिए बेहतरीन है। भरतपुर शहर से पार्क महज एक किलोमीटर दूर है। भरतपुर शहर दिल्ली, जयपुर व आगरा से रेल व सड़क से अच्छी तरह से जुड़ा है। पार्क के बाहर के इलाके में कई होटल हैं। पार्क के भीतर भी फॉरेस्ट लॉज और कुछ अच्छे रिजॉर्ट हैं।

…………………………………………………………

सुल्तानपुर में रौनक

Sultanpurदिल्ली में धौला कुआं से बमुश्किल 40 किलोमीटर दूर सुल्तानपुर बर्ड सैंक्चुअरी दिल्ली-एनसीआर के लिए सर्दियों के महीने के सबसे पसंदीदा वीकेंड डेस्टिनेशन में से एक है। इसे भारत के प्रमुख पक्षी अभयारण्यों में से एक माना जाता है। गुड़गांव से फर्रूखनगर के रास्ते पर स्थित इस बर्ड सैंक्चुअरी में पक्षियों की 250 से ज्यादा प्रजातियां देखने को मिल जाती हैं। साइबेरिया, चीन, यूरोप, तिब्बत व अफगानिस्तान से प्रवासी पक्षियों की सौ से ज्यादा प्रजातियां यहां सर्दियां गुजारने आती हैं। इनमें ग्रेटर फ्लेमिंगो, नॉदर्न पिनटेल, रोजी पेलिकन, वुड सैंडपाइपर, रफ, ब्लैक विंग्ड स्टिल्ट, कॉमन टील, कॉमन ग्रीनशैक, यलो वैगटेल, व्हाइट वैगटेल, नॉर्दन शोवलर, गैडवल, स्पॉटेड सैंडपाइपर, स्पॉटेड रेडशैंक, स्टार्लिंग, यूरेशियन वाइगेन, ब्लूथ्रोट  आदि शामिल हैं। चूंकि यहां देशी पक्षियों की संख्या भी खूब है, इसलिए यहां लगभग पूरे सालभर अच्छी संख्या में पक्षी देखने को मिल जाते हैं। यहां के निवासी पक्षियों में कॉमन हूप्पु, पैडीफील्ड पाइपिट, पर्पल सनबर्ड, लिटिल कॉर्मोरेंट, यूरेशियन थिक-नी, ग्रे फ्रैंकोलिन, ब्लैक फ्रैंकोलिन, इंडियन रोलर, कई तरह के किंगफिशर, आइबिस, इग्रेट्स, डव, बुलबुल, मैना, कबूतर, पैराकीट व स्टोर्क्स आदि शामिल हैं। लगभग 44.5 हेक्टेयर इलाके में फैले इस अभयारण्य को 1972 में सैलानियों के लिए खोला गया था। इस बर्ड सैंक्चुअरी को पैदल घूमने में लगभग दो घंटे का समय लग जाता है। पक्षियों को देखने के लिए यहां चार मचान भी बने हुए हैं। यहां नील गाय व ब्लैक बक भी देखने को मिल जाते हैं। प्रवासी पक्षियों के बसेरे सुल्तानपुर लेक से आगे भी फैले हैं। दिल्ली के कुछ इलाकों में प्रवासी पक्षियों की संख्या में आई गिरावट के बावजूद सुल्तानपुर में उनकी संख्या और प्राकृतिक माहौल कायम है।

कहां, कब व कैसेः सुल्तानपुर लेक हरियाणा के गुड़गांव जिले में है। गुड़गांव से फर्रूखनगर जाने वाले रास्ते पर चलें तो लगभग पंद्रह किलोमीटर बाद सुल्तानपुर पहुंचा जा सकता है। पर्यटन विभाग ने सैलानियों की सुविधा के लिए बुनियादी इंतजाम भी यहां किए हुए हैं। हरियाणा पर्यटन ने यहां गेस्ट हाउस बना रखा है और बर्ड म्यूजियम व वॉच टावर भी मौजूद हैं। दूर बैठे परिंदों को देखने के लिए दूरबीन भी किराये पर मिल जाती हैं। सर्दियों का समय प्रवासी पक्षियों को  देखने के लिए बेहतरीन लेकिन सुल्तानपुर उन पक्षी अभयारण्यों में से है जहां देसी निवासी पक्षी भी खूब हैं, इसलिए उन्हें देखने के लिए गर्मियों में भी जाया जा सकता है।

…………………………………………………………

कन्नौज का लाख-बहोसी

Lakh Bahosiउत्तर प्रदेश में छोटे-मोटे कई पक्षी विहार हैं। हालांकि भरतपुर या चिलिका जैसी प्रसिद्धि किसी को नहीं मिली लेकिन इसी वजह से वहां सैलानियों की भीड़ कम है, शोर-शराबा कम है और प्रवासी पक्षियों के विहार के लिए यह बिलकुल मुफीद है। इन्हें में से एक है लाख-बहोसी पक्षी विहार। कन्नौज से 40 किलोमीटर दूर स्थित दो तालाबों लाख व बहोसी को मिलाकर यह पक्षी विहार 1988 में स्थापित किया गया था। उत्तर प्रदेश के जिस इलाके में यह स्थित है, वह पर्यटन की दृष्टि से बेहद कम विकसित है इसलिए इनके बारे में ज्यादा चर्चा नहीं होती। जाहिर है, यहां बाकी सैलानी स्थलों की तरह रुकने, ठहरने व खाने की अच्छी सुविधाएं नहीं मिलेंगी। लेकिन प्रवासी पक्षी देखने का शौक हो तो फिर भला क्या बात है। और फिर, सैलानियों की भीड़-भाड़ का अभाव ही यहां की अल्हड़ खूबसूरती के बने रहने की वजह भी है। यहां कई तरह के स्टोर्क, किंगफिशर, क्रेन, गूज, आइबिस व डक के अलावा पक्षियों की अन्य कई दुर्लभ प्रजातियां देखने को मिल जाती हैं। जंगली मुर्गियों, उल्लुओं, बुलबुल व मैना आदि की भी कई किस्में यहां मिल जाती हैं। इनमें बार-हेडेड गूज, पिन टेल, कॉमन टेल, सैंड पाइपर वगैरह शामिल हैं। पक्षियों से संबंधित जानकारियों के लिए यहां एक पक्षी विज्ञान केंद्र भी है।

कब, कहां व कैसेः कन्नौज कानपुर-मथुरा मुख्य रेल मार्ग पर और दिल्ली-कोलकाता नेशनल हाईवे 24 (जीटी रोड) पर स्थित है। बहोसी तालाब का रास्ता सुगम है। आम तौर पर सैलानी वहीं जाते हैं। लाख के लिए बहोसी होकर जाना पड़ता है और वहां का रास्ता थोड़ा दुष्कर है। बहोसी कन्नौज से 40 किलोमीटर दूर है। ओरैया जिले में दिबियापुर से बहोसी तालाब की दूरी 38 किलोमीटर दूर है। कन्नौज के अलावा फफूंद (38 किलोमीटर) सबसे पास के रेलवे स्टेशन हैं। कन्नौज की तरफ से आने के लिए तिर्वा, इंदरगढ़ होते हुए बहोसी पहुंचा जा सकता है। दिबियापुर से आने पर कन्नौज की तरफ जाते हुए बेला से आगे कल्याणपुर के रास्ते में बहोसी पहुंचा जा सकता है। हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार अब अपने ऐसे विहारों में सुविधाएं बढ़ाने पर ध्यान दे रही है, लेकिन अब भी लाख-बहोसी में कई बुनियादी सुविधाओं का अभाव है। खाने-पीने को भी अच्छा ठिकाना नहीं। इसलिए फिलहाल अपनी तरफ से सारे इंतजाम करके ही जाएं तो बेहतर।

…………………………………………………………

गुजरात का नल सरोवर

Nal-Migratory bird flamingoगुजरात के अहमदाबाद व सुंदरनगर जिलों से सटा नल सरोवर अभयारण्य अहमदाबाद से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर है। नल सरोवर भारत में ताजे पानी के बाकी नम भूमि इलाकों से कई मायनों में अलग है। उपयुक्त मौसम, भोजन की पर्याप्तता और सुरक्षा ही सैलानी पक्षियों को यहां आकर्षित करती है। सर्दियों में सैंकड़ों प्रजातियों के लाखों प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा यहां रहता है। इतनी बड़ी तादाद में पक्षियों के डेरा जमाने के बाद नल में उनकी चहचाहट से रौनक बढ़ जाती है। नल में इन्हीं उड़ते सैलानियों की जलक्रीड़ाएं व स्वर लहरियों को देखने-सुनने के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां प्रतिदिन जुटते हैं। यहां पक्षी विशेषज्ञ, वैज्ञानिक, शोधार्थी व छात्रों का भी जमावड़ा लगा रहता है तो कभी-कभार यहां पर लंबे समय से भटकते ऐसे पक्षी प्रेमी भी आते हैं जो किसी खास परिंदे का फोटो उतारने की तलाश में रहते हैं। नल सरोवर अपने दुर्लभ जीवन चक्र के लिए जाना जाता है जिस कारण यह एक अनूठी जैवविविधता को बचाए हुए है। नल का वातावरण कई तरह के जीव-जंतुओं के लिए उपयुक्त है और एक भोजन श्रृंखला बनाता है। मूल रूप से यह बारिश के पानी पर निर्भर नम क्षेत्र है। सीजन की शुरुआत में यहां छोटे पक्षी ही आते हैं लेकिन जब नवंबर में मछलियां बड़ी हो जाती हैं तो भोजन की प्रचुरता व उचित वातावरण पाकर प्रवासी जल पक्षी भी यहां आने लगते हैं। दिसंबर से फरवरी तक इनकी संख्या अधिकतम होती है। नल एक खास प्रकार की जैवविविधता को बचाए हुए है। इस सरोवर में पिछली पक्षी गणनाएं बताती हैं कि नल में पक्षियों की संख्या साल दर साल बढ़ रही है। 2002 में यह संख्या 1.33 लाख थी, तो 2004 में यह 1.84 लाख रही, 2006 में यह बढ़कर 2.52 लाख हो गई। तब बत्तख व हंसों की संख्या 1.19 लाख व क्रेक्स, रेहस व कूट की संख्या 82 हजार थी। इस सरोवर में प्रसिद्ध फ्लेमिंगो की संख्या 5820 आंकी गई। सरोवर क्षेत्र में छोटे-बड़े कुल 300 टापू हैं। भूगर्भवेताओं का मानना है कि जहां पर आज नल सरोवर है वह कभी समुद्र का हिस्सा था जो खंभात की खाड़ी को कच्छ की खाड़ी से जोड़ता था। भूगर्भीय परिवर्तनों से जब समुद्र पीछे चला गया तो यह बंद मौसमी झील में तब्दील हो गया। सरोवर क्षेत्र में 225 किस्म के मेहमान पक्षी देखे गए हैं जिनमें से सौ किस्म के प्रवासी जल पक्षी हैं। इन पक्षियों में हंस, सुर्खाब, रंग-बिरंगी बतखें, सारस, स्पूनबिल, राजहंस,  किंगफिशर, प्रमुख हैं। कई बार यहां पर कुछ दुर्लभ पक्षी भी देखे गए हैं।

कब, कहां व कैसेः नल सरोवर के लिए आपको अहमदाबाद जाना होगा जो देश के प्रमुख नगरों से अच्छी हवाई व रेल सेवा से जुड़ा है। वहां से बस या टैक्सी से नल सरोवर पहुंचा जा सकता है। साठ किमी की दूरी को तय करने में डेढ़ घंटे लग ही जाते हैं। अभयारण्य की सीमा में गुजरात पर्यटन विकास निगम का एक गेस्ट हाउस है जो यहां पर एक रेस्तरां भी है। शोर न हो इसलिए सरोवर में मोटरबोट पूर्णतया प्रतिबंधित है। सरोवर की सैर के लिए बांस के चप्पुओं से खेने वाली नावें उपलब्ध रहती है। ये नावें अलग-अलग क्षमता वाली होती है। जैसे ही आप सरोवर में आगे बढ़ते है दूर-दूर मेहमान पक्षी नजर आने लगते हैं। पानी के अन्दर झांकने पर तलहटी में मौजूद जलीय जीवन भी आप देख सकते हैं। सरोवर में आपको निकटतम टापू तक ले जाया जाता है जिसतक आने जाने में दो से तीन घंटे तक लग जाते हैं। इस सैर के लिए वहां गाइड भी मिल जाते हैं। सरोवर के किनारे घुड़सवारी का आनंद भी ले लिया जा सकता है। यदि आप नल सरोवर के अलावा आसपास कुछ और देखना चाहते हों तो 60 किमी दूर लोथल जा सकते है जहां सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष देखे जा सकते हैं।

…………………………………………………………

चिलिका में विदेशी मेहमान

Northern Pin Tailओडिशा की चिलिका झील देश में प्रवासी पक्षियों का सबसे बड़ा ठिकाना है। यहां हर साल पहुंचने वाले पक्षियों की संख्या कई लाखों में है। कुल 1100 किलोमीटर की परिधि वाली यह झील उड़ीसा के तीन जिलों खुरदा, पुरी और गंजम में फैली है। यह एशिया में ब्रेकिश पानी (मीठे व खारे पानी की मिश्रित) की सबसे बड़ी झील है। दया नदी यहीं बंगाल की खाड़ी में मिलती है। इसे चिलिका लैगून भी कहा जाता है। यह देश के सबसे खूबसूरत प्राकृतिक इकोसिस्टम्स में से एक है। देश में इरावडी डॉल्फिन देखने का भी यही अकेला ठिकाना है। इस झील में पहुंचने वाले शुरुआती प्रवासी पक्षी मेहमानों में शोवलर, पिनटेल, गैडवल और पोचार्ड शामिल होते हैं। परिंदों का मुख्य अड्डा 15.53 वर्ग किलोमीटर में फैले नलबन में है। मगंलाजोड़ी, भुसंदपुर और कई अन्य जगहों पर भी पक्षी पहुंचते हैं। नलबन का इलाका पक्षी अभयारण्य के तौर पर घोषित है। वन विभाग के सूत्रों के आम तौर पर 170 प्रजातियों के कुल लगभग 9 लाख पक्षी चिलिका में पहुंचते हैं। इनमें से 4.05 लाख पक्षी तो केवल अभयारण्य क्षेत्र में ही आते हैं। उत्तर में कड़ाके की सरदी से बचने के लिए अफगानिस्तान, इराक, ईरान, पाकिस्तान, लद्दाख, हिमालयी क्षेत्र, मध्य एशियाई देशों, साइबेरिया आदि से परिंदे चिलिका में आते हैं। हर साल दशहरे के बाद से ही यहां पक्षी आने लग जाते हैं। फिर ये परिंदे गरमी की शुरुआत होते-होते लौट जाते हैं। आखिरकार प्रवास ढूंढना कोई छोटा-मोटा काम नहीं, कड़ी मेहनत लगती है इसमें। कल्पना कीजिए कि मंगोलिया से चिलिका आने वाले पक्षी पांच हजार से ज्यादा किलोमीटर की उड़ान बिना रुके पूरी करते हैं। है न हैरतअंगेज? इनके आगे सारी तकनीक फेल हैं। ऐसे परिंदों को उनके प्रवास में देखने का रोमांच अनूठा है।

कब, कहां, कैसेः चिलिका झील बहुत बड़ी है। यहां के परिंदों को देखने के लिए झीले में फैले पड़े  कई द्वीपों पर या उनके करीब जाना होता है। जाहिर है कि वो केवल नावों से ही हो सकता है। नलबन के अलावा कालीजई आईलैंड, हनीमून आईलैंड, ब्रेकफास्ट आईलैंड, बर्ड्स आईलैंड व परीकुड आईलैंड भी देखे जाते हैं। चिलिका झील में पुरी से भी जाया जाता है लेकिन आम तौर पर डॉल्फिन देखने के लिए। प्रवासी पक्षियों को देखने के लिए रम्भा, बरकुल व सातपाड़ा सबसे प्रमुख जगहें हैं। यहां से झील में जाने के लिए नावें मिल जाती हैं। इन तीनों जगहों पर रुकने के लिए उड़ीसा पर्यटन के गेस्ट हाउस मौजूद हैं। सभी जगहों के लिए पुरी व भुवनेश्वर से बस व ट्रेनें बड़ी आसानी से मिल जाती हैं। भुवनेश्वर रेल व हवाई मार्ग से देशभर से जुड़ा है। अक्टूबर से अप्रैल का समय यहां जाने के लिए सबसे बेहतरीन है।

भारत के कुछ अन्य प्रमुख पक्षी अभयारण्य

  1. सालिम अली पक्षी अभयारण्य, गोवा
  2. कुमारकोम पक्षी अभायारण्य, वेम्बांड लेक, केरल
  3. रंगनथित्तु पक्षी अभयारण्य, कर्नाटक
  4. वेदंथंगल पक्षी अभयारण्य, कर्नाटक
  5. कौनडिन्या पक्षी अभयारण्य, चित्तूर, आंध्र प्रदेश
  6. मयानी पक्षी अभयारण्य, सतारा, महाराष्ट्र

A day searching birds- rare and beautiful

DSC_4698Bird lovers across India including Delhi spent the entire day on Sunday, 16th February trailing birds in different bird-rich locations. As part of the Big Bird Day 2014, 384 birder teams-comprising about 3,000 to 5,000 people-documented the diversity of bird species. In the capital, 27 teams participated. They covered Sultanpur Bird Sanctuary, Okhla Bird Sanctuary, Asola Wildlife Sanctuary, Yamuna Biodiversity Park, Aravalli Biodiversity Park and other sites.

For the first time, six teams from Pakistan joined the bird race. Teams also came from Spain, Dubai and the US. Every state and union territory including Daman and Diu, Pondicherry, Manipur, Mizoram, Nagaland and others participated, organizers said.
“The response has been huge this year. Last year, there were only 160 teams,” said birder and co-organizer Bikram Grewal. He plans to make it an international event starting next year.

DSC_4761The Big Bird Day started from the Delhi Bird group-a team of avid bird-watchers a few years ago. In another first this year, the exercise is being computed on a software called E Bird. “Last year it was slightly ad hoc, so we tried to make it much more organized this time by urging everyone to submit their results on EBird which can compute the results accurately,” added Grewal. The final results of the number of species that were spotted across the country will be declared on Saturday.

Nikhil Devasar, another birder and co-organizer of Bird Day, said that the results will indicate the health of bird diversity in India. “We are not mapping numbers but numbers of species. It’s a huge exercise, so it will take us time to compile the results,” he said. There are no binding rules, participants usually make their own teams , set out at sunrise and come back at sunset. Some teams also do it only for a few hours.

DSC_4808At Aravalli Biodiversity Park, for instance, a seven-member team participated from 7.30am to 1.30pm but 79 species were recorded compared to 84 last year. “This may be due to fog and bad light in morning hours. After it became sunny, more species were encountered,” said M Shah Hussain, scientist in charge at Aravalli Biodiversity Park. Some important species they spotted include Eurasian eagle owl, Orange headed thrush, Rufous fronted prinia, Booted eagle, Grey breasted prinia, Common wood shrike and Oriental honey buzzard.

Teams at Yamuna Biodiversity Park also had a ball spotting 95 species. “The Thick-billed flowerpecker was seen for the first time. It’s a rare bird. We are thrilled with the sighting,” Faiyaz A Khudsar, scientist in charge at Yamuna Biodiversity Park, said.

(source: TOI)