Day: November 12, 2014

परंपराएं जोड़ती व तोड़ती नंदा राजजात यात्रापरंपराएं जोड़ती व तोड़ती नंदा राजजात यात्रा

नंदा होमकुंड से कैलाश के लिए विदा हो गईं- रास्ते के तमाम कष्टों व तकलीफों को झेलते हुए। लेकिन नंदा को पहुंचाने होमकुंड या शिलासमुद्र तक गए यात्रियों के लिए नंदा को छोड़कर लौटने के बाद का रास्ता ज्यादा तकलीफदेह था। भला किसने कहा था कि चढ़ने की तुलना में पहाड़ से उतरना आसान होता […]

Advertisements

READ MOREREAD MORE