Advertisements
Menu

परंपराएं जोड़ती व तोड़ती नंदा राजजात यात्रा

नंदा होमकुंड से कैलाश के लिए विदा हो गईं- रास्ते के तमाम कष्टों व तकलीफों को झेलते हुए। लेकिन नंदा को पहुंचाने होमकुंड या शिलासमुद्र तक गए यात्रियों के लिए नंदा को छोड़कर लौटने के बाद का रास्ता ज्यादा तकलीफदेह था। भला किसने कहा था कि चढ़ने की तुलना में पहाड़ से उतरना आसान होता […]

Advertisements

READ MORE

सतरंगी यात्रा का रोमांच

आली बुग्याल बेदनी से महज तीन-चार किलोमीटर की दूरी पर है। खूबसूरती में भी वो बेदनी बुग्याल के उतना ही नजदीक है। कुछ रोमांचप्रेमी घुमक्कड़ आली को ज्यादा खूबसूरत मानते हैं। मुश्किल यही है कि आली को उतने सैलानी नहीं मिलते जितने बेदनी को मिल जाते हैं। जानकार लोग आली की इस बदकिस्मती की एक […]

READ MORE

Photo of the day- A colony in clouds

A tent colony in clouds or on the edge of a cliff! A scene not common,considering the fact that this is at an altitude of almost 13 thousand feets, deep inside one of the most beautiful Himalayan interiors and at one of the most fascinating meadows- Bedni Bugyal. Not so common scene also because it […]

READ MORE

Traditional dance of Garhwal- Jhora at Waan

Traditional folk dance at Waan during Nanda Devi Rajjaat Yatra 2014. Last inhabitated village on Rajjaat route towards Bedini Bugyal, Waan is famous for its Latu temple. Latu is considered to be brother of Goddess Nanda Devi. Here onwards Latu leads the Yatra till Homkund. The video here is of traditional ‘Jhora’ in Nanda Devi’s […]

READ MORE