Tag Archives: Nanda Devi

A photo journey to Shitlakhet, a hidden gem in Kumaon


Featured post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

I had been hearing about Shitlakhet for almost ten years now, ever since I started visiting the Almora region more frequently. I even made some flying visits to the village, and had some incredibly tasty maggi. But never got an opportunity to stay overnight and explore the place until last month when I was there as the part of the Bloggers Bus of Uttarakhand Tourism. Although a one night stay is just not enough to do any justice to this place, but we tried to extract  as much experience as possible.

KMVN Tourist Rest House at Shitlakhet

Shitlakhet is certainly not a happening place. But I can bet, it is unimaginably beautiful. It is just a small village at the end of the mountain ridge. But it is full of adventure and it is certainly a photographers paradise. Hence, I though that it is better to talk about this place with some photographs.

The forest rest house at Shitlakhet, located just besides the KMVN TRH. This building was built in 1850 by the britishers, and is now used by the forest department. It has two suites. And you have to be lucky to find an accommodation here.

We stayed at Kumaon Mandal Vikas Nigam (KMVN) tourist rest house which is at the base of the hill on whose top Syahi or Siyahi Devi temple is located. She is a local deity and most revered here in the region. Most enjoyable activity at Shitlakhet is a morning trek to top of the hill. It might be around a four kilometre trek to the top, but it is worth every bit. On the way you experience the vividness of the nature here.

The Syahi Devi temple is located on the top of this hill, just behind those towers that can be seen in this photo

View this post on Instagram

An early monsoon morning throws the blue tones for a Forest Rest House built in 1850 in the foreground and fading lights of Almora in the background. Nature always has some hidden ideas that you are not aware of! At the Bloogers Bus 3.0 consecutively for four days we had an early wake up at 4.30 am in hope of catching some Himalayan views under clear skies, but what we invariably got to see was this! Still, nothing to complain as we had an altogether different view of nature… mesmerising still! Isn't it!! #Uttarakhand #UttarakhandTourism #Kumaon #KMVN #IncredibleIndia #BloggersBus #SimplyHeaven #UTDB #Sitalakhet #Shitalakhet #Almora #Himalayas #travel #travelstories #photography #photooftheday #picoftheday #Instapics #Traveldiaries #Sitlakhet

A post shared by Upendra Swami (@swamiupendra) on

Besides its amazing 200 degree Himalayan views, Sitlakhet is also famous for its orchards, landscapes, herbs, medicinal plants, as well as birds. The day we reached here was done away in planting some saplings to celebrate Harela festival. Since we had to leave the next morning after breakfast, only time we had in our hands was the early morning and we decided to have a short trek to explore the area. A small hike to the middle of the hill and all of a sudden, we got to see what we had been missing – the Himalayan views. And actually, we were lucky to have these views during the peak of monsoon. It was a small window when the sky got cleared and we were able to have a glimpse of majestic Garhwal and Kumaon Himalayas. (Click on the thumbnails to have bigger look of the panorama.

First of the panoramic views from Shitlakhet
Second view with a closer look of peaks

The prominent peaks that we could see were Chaukhamba on the Garhwal side and Trishul, Nanda Devi and Panchachuli massif on the Kumaon side.

View this post on Instagram

Amazing morning view of Chaukhamba peak from Sitlakhet! One fascinating thing about Sitlakhet is its 360 degree view. You get that from the top of hill where the Syahi Devi temple is located. What you can see is a panaroma of Garhwal and Kumaon Himalayas together. You hardly get to see that big a view range from any other place in either Garhwal or Kumaon! Still it is a destination hardly known to outsiders, although it is just a half hour away from Almora! Be there next time!! #Uttarakhand #UttarakhandTourism #Garhwal #GMVN #Kumaon #KMVN #BloggersBus #IncredibleIndia #photooftheday #photography #instapics #pictureoftheday #Himalayas #Shitlakhet #Sitlakhet #Sitalakhet #travel #travelstories #Chaukhamba #Simplyheaven #Almora

A post shared by Upendra Swami (@swamiupendra) on

Exploring Almora: A bougainvillea love story in Almora

View this post on Instagram

Another one of the fascinating views from Shitlakhet- the Panchachuli Massif. Personally for me, it was more satisfying as for the first time, I was capturing all five together in a frame. Panchachuli near Munsyari is a group of five peaks. Panchachuli-2 is the highest one (6904 mts), one whose peak is covered with clouds. This is also the highest peak in Kumaon region. Panchachuli-1 (6355 mts) is to its left and Panchachuli-3 (6312 mts), 4 (6334 mts) and 5 (6437 mts) are to the right of Panchachuli-2. Chuli in Nepalese means peaks. But legends also attach these five peaks to five Pandavas. Closer you move to Pithoragarh and then Munsyari, better the view of these five peaks will be. But Shitlakhet gives you the panaromic view of the ranges. #travelblog #photooftheday #photography #instapics #pictureoftheday #Uttarakhand #uttarakhandtourism #Kumaon #KMVN #travel #tourism #SimplyHeaven #BloggersBus #TravelStories #Himalayas #peaks #Panchachuli #Shitlakhet #Pandavas #Mahabharata #mythology #legend

A post shared by Upendra Swami (@swamiupendra) on

The trail to the temple takes you through dense pine forests. Morning hike is also best to have some good views of birds and some wild life as well. Best time also to have some good light for photography. Perfect for some nature walks. You can find scattered houses, orchards, camping sites and resorts spread out.

Most of the area is largely unexplored, and you hardly get to see any tourists here. It is quite rich in flora and fauna. Shitlakhet is said to have more than 115 species of birds. As is with hills in general, you can find here lots and lots of flowers- small and big.

Same flower in a different colour-

Sunflowers here are very big and beautiful

It is said that most part of the hill (it is many hundreds of acres land) is actually a private property which comes under Bora estate. This is owned by a Almora based family which inherited this property from its earlier generation who had purchase it from a britisher decades before independence. Tough to imagine that this whole part of the hill belongs to a single individual.

This is the cottage built during the British period, which was used as the owners of the Bora estate as their personal residence. This has got an old world charm but needs a lot of maintenance though.

More from Kumaon: Myth and mystery of the cave 90 feet deep

Its a fertile area, with favourable climate and very less amount of disturbance. Hence locals have been doing lots of experiments in livelihood including farming and small scale productions.

Mushroom farming at Shitlakhet
An essence extracting distillation unit inside a house to produce perfumes and essence.

With this place so serene, peaceful and away from the main course, it has got some exclusive places for stay. As, we mentioned that KMVN TRH and Forest rest house as well as some small hotels are there for budget stay close to village and the road head.  But up on the hill, some camping sites and high-end resorts are also available.

Ananta Rasa by Amritara at Shitlakhet

I had also often heard about an adventure camp run by Discovery here for many years. It is actually a Pine wood Cliff campus by Youreka.

Pine wood cliff by Youreka
Getting some knowledge under the Bodhi Tree

There are lot many treks, that can be done here. You also enjoy mountain biking and lot of other activities. This place has been popular for team building corporate activities.

More from Bloggers Bus 3.0: Whispering winds, hovering clouds and a ghost which wasn’t there.

How to reach

Beauty of this place is that although it is very close to tourist towns of Ranikhet and Almora, it is free of tourists. Ranikhet is 30 kms and Almora is 36 kms from here. You can reach here directly from Kathgodam via Ranikhet and Kathpudia. Or you can go to Almora and come here via Kosi bridge.

Read more: Kausani through flowers, a photo story!

When to go

September to March would be best time to go here. But one more thing, I still feel it is lot underrated as winter destination. It is breathtaking during winter snow. It could take away sheen of many of its famed neighbours for sure. I am going to write about it more in coming season.

Have you been to Shitlakhet? Pleas share your experiences in the comments section below.

Spread the love! Share the post!!
Featured post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

Advertisements

Kausani, through flowers – A photo story!

Kausani is all famous for its Himalayan View- a panorama of the Nanda Devi range from Chaukhamba peak to Panchachuli. I am somehow fond of this place and have done many posts about it.

But I have always loved these himalayan cities for their flowers too. So bright, blooming. They make such a beautiful contrast with dust & noise free atmosphere, blue sky and white mountains. Range of flowers too is so wide, which we normally don’t find in the plains. A look at few of them, which I could find around me every time while we stayed at TRH, Kausani. What a wonderful stay it was!

A tourist trip to Dharavi slums brings awards!

Dharavi SlumsWell! To start with, how many of us would like to have a visit to a slum during our next trip? Tough question and may sound quite illogical to some. What if I say that a few tourists coming to India actually have Dharavi slums of Mumbai in their travel itinerary? Still many will be sceptical, dismissing it as a gimmick of selling India’s poverty to the West. But it isn’t so. It is an increasing trend of Social tourism which takes tourism for a cause. To give it back to the society and to engage all those in tourism, which have kept out of it so far.

These efforts are also recognised by World Travel & Tourism Council (WTTC),which gives away Tourism For Tomorrow Awards every year. Awards are open to any tourism organisation that is working to improve the lives and opportunities for communities where it operates. The award aims to celebrate the force for good tourism can be for local populations, and is made to the organisation that has strived to enhance the capacity of the community, providing health and education, empowering local people and increasing the spread of benefits. Those who demonstrate exceptional community engagement; board level commitment to community issues; policies embedded across the organisation, evidence of investment in creating and maintaining community projects; preservation of cultural heritage; and support for direct local employment and local supply chains.

Life in DharaviThis year India’s Reality Tours and Travel was winner in the Community Award category. Ask most tourists what’s on their bucket list for India and they will probably mention temples, tigers and the Taj Mahal. Few will include a visit to Dharavi, one of Asia’s largest slums. Yet a trip here with Reality Tours & Travel will provide more of an insight into the ‘real India’ that so many seek. Reality Tours & Travel’s 2.5 hour walking tour aims to give visitors the most accurate picture possible of Dharavi and life in this vast slum. Guests interact with locals as much as possible without disrupting their lives or work.

Dharavi SchoolThese trips have two key goals. The first is to break down negative stereotypes. Local slum residents are employed as guides and staff to show visitors how Dharavi is the heart of small-scale industry in Mumbai. Guests get to see recycling, pottery making, embroidery, bakery, a soap factory, leather tanning, poppadum-making and much more. And because groups are kept small, a strict dress code is observed, and photography is not allowed, the tours avoid disrupting the residents’ lives or treating them as attractions. The second goal is to support the inhabitants of Dharavi, and 80% of Reality Tours & Travel’s profits go to development projects in the communities it visits. Run by its sister NGO, Reality Gives, projects range from computer, English and soft skills classes for 16 to 30 year old students, a girls football program, an art room and a ‘Barefoot’ acupuncturists clinic, to the neatly named ‘I Was a Sari’, a women’s empowerment scheme that turns old saris into designer products.

Reality Tours & Travel’s success is growing by the year. In 2006, it hosted just 397 guests; by 2013 that number had risen to 16,265. It has so far spent US$134,000 on Reality Gives activities over its seven years of operation; and it recently expanded to working in New Delhi with the Sanjay Colony slum. All together this means many more people are returning home from a holiday in India with an original story to tell. In the community award section two other finalists were Jordan’s Feynan Ecolodge and South Africa’s Grootbos Nature Reserve.

View of Nanda Devi from Gorson
View of Nanda Devi from Gorson

India’s another organisation Mountain Shepherds Initiative was finalist in People Award category. The mountain of Nanda Devi was once the second most popular summit to attempt in the Himalayas after Everest. However, such popularity brought heavy environmental pressures on the surrounding region, and in 1982 the Indian government created the Nanda Devi Biosphere Reserve and shut the whole region to human access. This may have helped the natural environment, but it was a multiple tragedy for the local people, an Indo-Tibetan ethnic group known as the Bhotiya. In one go they lost access to their prime alpine pastures, to their source of medicinal herbs, and to the tourist trade that sustained them. The irony is that a few years earlier these same communities had given birth to the Chipko movement, whose activism to save the region’s forests is one of the most celebrated stories in the history of Twentieth Century environmental activism.

Mountain_shepherds_Trek party
Mountain_shepherds_Trek party

In recent years, however, the state government of Uttarakhand has begun to reopen the park to limited ecotourism. In response the Bhotiya have worked to develop sustainable, community-based tourism around Nanda Devi. The pinnacle has been the foundation in 2006 of the Mountain Shepherds Initiative. Since its foundation, more than 70 youth, both boys and girls, have been trained. Some now work with other groups, although a core group manages the company itself, while also working as cooks, housekeepers, nature guides, or mountaineering and ski instructors.  They are incentivised by the chance to own shares in the company should they stay and work hard.  So far 12% of the total equity is owned by the youth, and the percentage is growing each year. Recently the group has begun to share its model with other similar communities spread across the Himalayas. They have visited five locations in north east India to showcase their experiences and to encourage these communities that they too could develop responsible tourism. In so doing they are helping sustain these remote and inaccessible villages, while also ensuring the preservation of the natural heritage that surrounds them.

Mountain_shepherds_Guests in traditional head scarf
Mountain_shepherds_Guests in traditional head scarf

Winner in this category was Confortel Hoteles of Spain while other finalist was Global Travel and Tourism Partnership of USA. In the Destination category winner was Ljubljana in Slovenia, while two other finalists were Northeast and Milan Coast of Taiwan and Sozopol of Bulgaria. In the Environment category winner was The Soneva Group working in Maldives and Thailand. Two finalists in this category were Laguna Lodge Eco-resort & Nature Reserve in Guatemala and Rivers Fiji in Fiji. In the Innovation Category TripAdvisor GreenLeaders of USA was the winner while two finalists were ABTA Welfare Guidance for Animals in Tourism of UK and Red Sustainable Travel of Mexico.

 

Photo of the day – Seems Surreal!

Beautifully laid untouched snow on top of the hill! An amazing 360 degree view of natural splendour in clear blue skies. Gorgeous unhindered spectacle of himalayan ranges from Himachal to Chaukhamba to Trishul and Nanda Devi right in front of your eyes. No mess of a tourist place. Calm and seclude and above all this altitude of almost 10 thousand feet so approachable as a just 45 minutes cool trek from main motorable route. Seems surreal, isn’t it! And it is in India.

Wanna be there? Drop down at Kaddukhal on main Mussorie-Chamba road in Uttarakhand and take a one and half kilometre trek through to top, to Surkanda Devi temple. Its amazing!

DSC_9771

Most amazing sunrise

Nature mesmerises us in many ways and a beautiful sunrise is one among the top. Bringing you here one of the most fascinating sunrises you will ever see. Kausani in Himalayan state of Uttarakhand is one of the best places to have a panoramic view of Himalayas- from Chaukhamba to Panchachuli peaks in the Nanda Devi range. What a view it would be when first rays of sun fall on a 360 kms wide natural canvas of snow clad himalayan peaks! An elevation of more than 20 thousand feet right in front of your eyes is enough to elate the mood! A view very rare and captured beautifully. See the video to believe it… Be there to feel it…

परंपराएं जोड़ती व तोड़ती नंदा राजजात यात्रा

Nanda at Homkund. Photo : Jaimitra Bisht
Nanda at Homkund. Photo : Jaimitra Bisht

नंदा होमकुंड से कैलाश के लिए विदा हो गईं- रास्ते के तमाम कष्टों व तकलीफों को झेलते हुए। लेकिन नंदा को पहुंचाने होमकुंड या शिलासमुद्र तक गए यात्रियों के लिए नंदा को छोड़कर लौटने के बाद का रास्ता ज्यादा तकलीफदेह था। भला किसने कहा था कि चढ़ने की तुलना में पहाड़ से उतरना आसान होता है! चंदनिया घाट से लाटा खोपड़ी और फिर वहां से सुतौल तक की जो उतराई थी, वैसी विकट उतराई ट्रैकिंग के बीस साल से ज्यादा के अपने अनुभव में मैंने कम ही देखी-सुनी हैं। मुश्किल यह थी कि इसका किसी को अंदाजा भी न था। डर सब रहे थे ज्यूंरागली को लेकर और हालत पतली हुई नीचे उतर कर।

Yatris on hilly terrain
Yatris on hilly terrain

ज्यूंरागली का अर्थ स्थानीय भाषा में मौत की गली होता है। रूपकुंड की तरफ से चढ़कर शिला समुद्र की ओर उतरने का यहां जो संकरा रास्ता है, ऊपर धार (दर्रे) पर मौसम का जो पल-पल बदलता विकट रुख है, उन सबको ध्यान में रखकर इसका यह नाम कोई हैरत नहीं देता। फिर रूपकुंड में बिखरे नरकंकालों के बारे में तो कहा ही जाता है कि वे सदियों पहले ज्यूंरागली पार कर रहे किसी सैन्य बल के ही हैं। हालांकि तमाम अध्ययनों के बावजूद इसपर निर्णायक रूप से कोई कुछ नहीं कह सकता। कुछ स्थानीय इतिहासकारों के अनुसार रूपकुण्ड दुर्घटना सन् 1150 में हुई थी जिसमें राजजात में शामिल होने पहुंचे कन्नौज नरेश जसधवल या यशोधवल और उनकी पत्नी रानी बल्लभा की सुरक्षा और मनोरंजन आदि के लिए सैकड़ों की संख्या में साथ आए दलबल की मौत हो गयी थी। उन्हीं के कंकाल आज भी रूपकुंड में बिखरे हुए हैं। 1942 में सबसे पहली बार पता चलने के बाद से इनपर काफी लोग शोध व डीएनए विश्लेषण तक कर चुके हैं, जिनमें नेशनल ज्योग्राफिक भी शामिल है। कुछ इतिहासकार यह भी मानते हैं कि कभी लोग स्वर्गारोहण की चाह में इसी स्थान से महाप्रयाण के लिए नीचे रूपकुंड की ओर छलांग लगाते थे। फिर लगभग 16 हजार फुट की ऊंचाई कोई कम भी तो नहीं। जाहिर था, नंदा राजजात यात्रा से पहले और यात्रा के शुरुआती दिनों के दौरान लोगों के बीच जिसका चर्चा व रोमांच सबसे ज्यादा था, वे रूपकुंड व ज्यूंरागली ही थे। लेकिन हैरानी की बात थी कि इस रास्ते पर लोग इतना परेशान नहीं हुए, जितना कि अंदेशा था। शायद यात्री, आयोजक व प्रशासन, सभी ज्यादा सतर्क थे। इसीलिए उतराई ने सबको चित्त कर दिया।

Yatra at Baijnath temple
Yatra at Baijnath temple

लिहाजा यह अकारण ही नहीं था कि न्यूनतम 12 साल के अंतराल पर होनी तय इस लगभग तीन सौ किलोमीटर की यात्रा के संपन्न होने के बाद, दो-तीन बातों की चर्चा सबसे ज्यादा रही- बेहद कष्टदायक उतराई और यात्रा में कई धार्मिक परंपराओं का टूटना। दबे स्वर में ही सही, इतने लोगों के एक साथ इतनी ऊंचाई पर जाने और उनके लिए होने वाले इंतजामों के पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रतिकूल असर का मुद्दा भी उठा। दूसरी बात का महत्व इसलिए भी है कि टूटती व बनती परंपराएं अगली राजजात का भी आधार बनेंगी। रही बात कष्ट की तो, ज्यादातर यात्री इसे नंदा की आराधना का ही एक पक्ष मानकर स्वीकार कर लेंगे। आखिर बात नंदा की है। नंदा कोई सामान्य देवी नहीं हैं, वह समूचे उत्तराखंड की आराध्या हैं। उत्तराखंड की समस्त देवियां उनमें समाहित हैं, वह सभी शक्तिपीठों की अधिष्ठात्री हैं। लोक इतिहास के अनुसार नंदा गढ़वाल के राजाओं के साथ-साथ कुमाऊं के कत्युरी राजवंश की ईष्टदेवी थी। ईष्टदेवी होने के कारण नंदादेवी को राजराजेश्वरी भी कहा जाता है। यहां के लोगों के लिए बेटी भी हैं, शिव पत्नी पार्वती भी हैं, सती भी हैं, पार्वती की बहन भी हैं, दुर्गा भी हैं, लक्ष्मी भी हैं और सरस्वती भी। यही कारण है कि नंदा को समस्त प्रदेश में धार्मिक व सांस्कृतिक एकता के सूत्र के रूप में भी देखा जाता है। तमाम देवियों के छत्र-छंतोलियां, डोलियां व निशान इसी वजह से इस राजजात यात्रा में हाजिरी देते हैं और नंदा को ससुराल के लिए विदा करते हैं।

Traditional dance at Waan
Traditional dance at Waan

नंदकेसरी में गढ़वाल व कुमाऊं की यात्राओं के मिलन और फिर वाण में लाटू के मंदिर से पहाड़ के कठिन सफर के लिए नंदा की विदाई के मौके पर भक्ति का भावनात्मक प्रवाह नंदा में स्थानीय लोगों की अगाध श्रद्धा की गवाही दे रहा था। लेकिन देश, काल, परिस्थितियों के अनुसार धार्मिक परंपराएं बदलती हैं और नंदा देवी राजजात भी इसमें कोई अपवाद नहीं। परंपराओं के बदलने की वजहें कुछ भी हो सकती हैं। जैसे शुरुआती दौर में डोलियों व छंतोलियां की संख्या सीमित थी, लेकिन कालांतर में इनका प्रतिनिधित्व बढ़ने लगा। अब उत्तराखंड के दूर-दराज के इलाकों से छंतोलियां व निशान यात्रा में शिरकत करने लगे हैं। पिछली बार यानी 2000 में कुमाऊं की राजछंतोली पहली बार राजजात में शामिल हुई थी। इस बार सुदूर पिथौरागढ़ में मर्तोली से लंबा व दुष्कर सफर करके निशान यात्रा में शामिल हुआ। ऐसे कई उदाहरण हैं।

Bedni: highlight of the Yatra
Bedni: highlight of the Yatra

कई इतिहासकार कहते हैं कि यात्रा में पहले नरबलि का चलन था, उसके रुकने के बाद पशुबलि चलती रही। हालांकि अब वो भी रुक गई है। वाण के आगे रिण की धार से चमड़े की वस्तुएँ जैसे जूते, बेल्ट आदि व गाजे-बाजे, स्त्रियाँ-बच्चे, अभक्ष्य पदार्थ खाने वाली जातियाँ इत्यादि राजजात में निषिद्ध हो जाया करते थे। अभक्ष्य खाने वाली जातियों का तात्पर्य छिपा नहीं है। जातिगत श्रेष्ठता का तर्क यात्रा से पूरी तरह समाप्त तो नहीं हुआ है लेकिन कम बेशक हुआ है। अब बेरोकटोक महिलाएं पूरी यात्रा करने लगी हैं। इस लिहाज से यात्रा में प्रतिनिधित्व बढ़ने से कोई हर्ज तो नहीं होना चाहिए था।

Bare foot at 14K feets
Bare foot at 14K feets

लेकिन इस बढ़ती संख्या से यात्रा के स्वरूप में भी बदलाव आया है। तमाम छंतोलियां व डोलियां अपने साथ श्रेष्ठता का एक भाव भी लाती हैं। नौटी व कुरूड़ के बीच का विवाद तो काफी समय से है। नंदा में चूंकि स्थानीय लोगों की श्रद्धा अगाध है और राजजात में शिरकत करने वालों की संख्या कई हजारों में होती है, इसलिए छंतोलियों के क्रम व उनकी स्थिति को लेकर एक होड़ सी रहती है। लोगों की भेंट व चढ़ावा भी इसकी एक वजह होते हैं। ऐसे में यात्रा का मूल क्रम ही बिगड़ गया। मान्यता यह रहती थी कि यात्रा में सबसे आगे चौसिंघा खाड़ू चलता है और उसके पीछे लाटू का निशान, गढ़वाल व कुमाऊं की राज छंतोलियां और पीछे बाकी छंतोलियां व यात्री। लेकिन इस बार ऐसा कोई क्रम न था। छंतोलियां व यात्री अपनी जरूरत व सहूलियत के हिसाब से आगे पीछे चल रहे थे और पड़ाव तय कर रहे थे। नंदा यानी मुख्य यात्रा के होमकुंड पहुंचने से पहले ही कई यात्री व छंतोलियां होमकुंड में पूजा करके वापसी की राह पकड़ चुके थे। और तो और, यात्रा में इतने खाड़ू थे कि कौन सा मुख्य है, यात्री इसी भ्रम में थे। लेकिन यह सब भी उतनी बड़ी बातें नहीं थीं, जितनी इसके पीछे के अंतिर्निहित तनाव थे। मान्यतानुसार जिन लोगों को वाण से आगे नंदा की डोली उठानी थी, उन्हें उठाने ही नहीं दी गई, लिहाजा सुतौल के द्योसिंह देवता का निशान यात्रा पूरी किए बिना ही बेदनी बुग्याल से लौट गया। बदले में विवाद की आशंका में होमकुंड से लौटते हुए नंदा की डोली सुतौल रुकी ही नहीं, सीधे घाट चली गई जिसपर लोगों में खासी नाराजगी रही। ऐसे ही कुछ और भी विवाद रहे। इंतजामों को लेकर पतर-नचैनिया व बेदिनी में लोगों की जमकर नारेबाजी व विरोध प्रदर्शन का नजारा भी अखरने वाला था।

long wait to go towards Homkund
long wait to go towards Homkund

इतनी बड़ी यात्रा में इंतजामों की कमी स्वाभाविक थी। खास तौर पर यह देखते हुए कि यात्रियों की संख्या को लेकर न कोई अनुमान था और न ही उस अनुपात में इंतजाम। फिर ऊंचाई वाले इलाके में वाण से लेकर वापस सुतौल पहुंचने तक हर दिन बारिश हुई, जिससे इंतजामों पर असर पड़ा, रास्ते में तकलीफें बढ़ीं। राहत की बात यही थी कि इस सबके बावजूद यात्रा में कहीं कोई हादसा न हुआ। लेकिन ऐसे विकट इलाके में यात्रा का लगातार बढ़ता स्वरूप पर्यावरणविदों के लिए बड़ी चिंता का सवाल है। चमोली के एडीम व मेला अधिकारी एम.एस. बिष्ट कहते हैं कि सरकारी अनुमानों के मुताबिक 20 से 25 हजार यात्री वाण से ऊपर की ओर गए। बेदिनी से ऊपर का इलाका इतना संवेदनशील है कि वहां जोर से बोलने तक के लिए मना किया जाता है। हालांकि बेदिनी बुग्याल व रूपकुंड क्षेत्र रोमांच प्रेमियों व ट्रैकर्स में बेहद लोकप्रिय है। वहां की पारिस्थितिकी और प्राकृतिक खूबसूरती को कैसे आने वाली पीढ़ियों के लिए सलामत रखा जाए, यह कम महत्व का मुद्दा नहीं।

…………………….

क्या है नंदा राजजात

Mysterious Roopkund!
Mysterious Roopkund!

आस्था, रहस्य व रोमांच। नंदा देवी की राजजात यात्रा इन सबका मिला-जुला रूप है। हजारों लोगों के रेले में राह दिखाता सबसे आगे चलता चार सींग वाला काला मेढ़ा, नंदादेवी की राजछंतोली के पीछे चलती उत्तराखंड के गांवों-गांवों से आई छंतोलियां, सबके साथ वीर व पश्वाओं की टोली- भक्ति से सराबोर होकर पहाड़ों को नापती। इसे हिमालयी कुंभ भी कहा जाता है क्योंकि कुंभ की ही तर्ज पर यह यात्रा 12 साल में एक बार होती है। स्वरूप में यह यात्रा है क्योंकि इसमें शिरकत करने वाले लोग 19 दिन तक एक पड़ाव से दूसरे पड़ाव की ओर चलते रहते हैं। एशिया की इस सबसे लंबी यात्रा में लगभग तीन सौ किलोमीटर का सफर तय किया जाता है। इतना ही नहीं, इसमें से छह दिन की यात्रा हिमालय के कुछ सबसे दुर्गम, ऊंचाई वाले इलाके में की जाती है। पिछली यात्रा 2000 में हुई थी। इस लिहाज से 2012 में अगली यात्रा होनी थी। लेकिन उस साल एक मलमास (अधिक मास) के कारण यात्रा का संयोग नहीं बना। पिछले साल भी यात्रा की तारीखें तय हो गई थीं, लेकिन केदारनाथ इलाके में जो भयंकर तबाही जून में हुई थी, उसके बाद न तो प्रशासन में और न ही लोगों में यात्रा करने की हिम्मत बची थी। अब इस साल यह यात्रा हो रही है। यात्रा कब से हो रही है, इसका ठीक-ठीक कोई इतिहास नहीं मिलता। राजजात समिति के पास जो अभिलेख हैं, उनके अनुसार 1843, 1863, 1886, 1905, 1925, 1951, 1968, 1987 व 2000 में यात्रा का आयोजन हो चुका है। यानी बीते डेढ़ सौ साल में यह कभी भी 12 साल के अंतराल पर नहीं हो पाई है। जाहिर है, यह यात्रा से जुड़ी मान्यताओं व दुर्गमताओं, दोनों की वजह से है। बहरहाल, तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए इस साल 18 अगस्त को उत्तराखंड में कर्णप्रयाग के निकट नौटी से शुरू हुई यात्रा 6 सितंबर को नौटी में ही समाप्त हुई।

सतरंगी यात्रा का रोमांच

बेदनी बुग्याल और पीछे त्रिशूल पर्वत
बेदनी बुग्याल और पीछे त्रिशूल पर्वत

आली बुग्याल बेदनी से महज तीन-चार किलोमीटर की दूरी पर है। खूबसूरती में भी वो बेदनी बुग्याल के उतना ही नजदीक है। कुछ रोमांचप्रेमी घुमक्कड़ आली को ज्यादा खूबसूरत मानते हैं। मुश्किल यही है कि आली को उतने सैलानी नहीं मिलते जितने बेदनी को मिल जाते हैं। जानकार लोग आली की इस बदकिस्मती की एक कहानी भी बताते हैं। किस्सा आली व ऑली में एक टाइपोग्राफी चूक का है। दोनों ही जगह उत्तराखंड में हैं। ऑली बुग्याल जोशीमठ के पास है और इस समय देश के प्रमुखतम स्कीइंग रिजॉर्ट में से एक है। कहा जाता है कि ऑली को मिलने वाली सुविधाएं आली को मिलनी तय थीं। लेकिन बस फैसला होते समय नाम में कोई हर्फ या हिजा इधर से उधर हुआ और आली की जगह ऑली की सूरत बदल गई। हालांकि मेरी नजर में ऑली के हक में एक बात और यह भी जाती है कि वह सड़क के रास्ते में है। जोशीमठ से ऑली के लिए सड़क भी है और रोपवे भी।

15 हजार फुट की ऊंचाई पर राजनीतिक बैनर
15 हजार फुट की ऊंचाई पर राजनीतिक बैनर

आली यकीनन खूबसूरत है, लेकिन बेदनी बुग्याल चूंकि बहुचर्चित रूपकुंड ट्रैक के रास्ते में है इसलिए सैलानी अपना बेस बेदनी को बनाते हैं। आली के साथ एक दिक्कत यह भी है कि वहां पानी का कोई स्रोत नहीं है। बेदनी में बड़ा सा तालाब है जो उसकी अहमियत बढ़ा देता है। इस तालाब का तर्पण आदि के लिहाज से धार्मिक महत्व भी है, लिहाजा इसे वैतरिणी कुंड भी कहते हैं। इसी बेदनी कुंड के एक किनारे मंदिर में नंदा, महिषासुर मर्दिनी और काली की अति प्राचीन मूर्तियां स्थापित हैं। वहीं पर शिव का भी मंदिर बना है। मान्यता यह है कि बेदनी में ही वेदों की रचना की गई, इसी से इस जगह का नाम बेदनी पड़ा। इसीलिए हर साल कुरूड़ में नंदा देवी के सिद्धपीठ से निकलने वाली छोटी जात बेदनी तक आती है और 12 साल में एक बार होनी तय राजजात का भी यह प्रमुख पड़ाव माना जाता है।

आगे मेेढ़ा और पीछे नंदा राजजात का यात्री
आगे मेेढ़ा और पीछे नंदा राजजात का यात्री

लगभग 11 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित बेदनी और लगभग 12 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित बेदनी से लगा हुआ आली लगभग 12 किलोमीटर के इलाके में फैले हुए हैं। मखमली घास के इन बुग्यालों में कई रंगों के फूल खिलते हैं। कई जड़ी-बूटियां यहां मिलती हैं। यहां के कुदरती नजारे, रंग बिरंगे फूलों से सजी मुलायम घास और कोहरे, बादल, धूप व बारिश की लुका-छिपी का खेल अदभुत व दुर्लभ है। बेदनी व आली में चारों तरफ फैले कई किलोमीटर के घास के ढलान स्कीइंग के बिलकुल माफिक हैं, लेकिन अभी उनका इस्तेमाल उस तरह से ज्यादा होता नहीं। स्थानीय लोग इन बुग्यालों पर भेड़-बकरी और घोड़े-खच्चर चराते हैं। बुग्याली घोड़े भी बेहद आकर्षक होते हैं और सुंदर-सजीले घोड़े इतनी ऊंचाई पर कुंलाचे मारते दिख जाएं तो भला क्या बात है।

वाण में कैंपिंग
वाण में कैंपिंग

इतनी ऊंचाई की एक और मनमोहक खूबसूरती यहां से सूर्योदय व सूर्यास्त का शानदार नजारा है। बेदनी बुग्याल के ठीक सामने एक तरफ नंदा घुंटी चोटी है और दूसरी तरफ त्रिशूल। आली से दिखने वाला नजारा तो और भी खूबसूरत है। मौसम खुला हो और तड़के जल्दी उठने की हिम्मत कर सकें तो इन चोटियों पर पड़ने वाली सूरज की पहली किरण की खूबसूरती का कोई जवाब नहीं। इसे केवल यहां आकर ही महसूस किया जा सकता है, तस्वीरें देखकर नहीं। इसीलिए राजजात यात्रा में शरीक होने वालों से यह हमेशा कहा जाता रहा है कि आगे का सफर बेशक कठिन है लेकिन जब निकलें हैं तो बेदिनी तक जरूर जाएं।

लेकिन बेदनी पहुंचना भी इतना आसान तो नहीं। पहाड़ी आलू के लिए प्रसिद्ध वाण इस रास्ते का आखिरी गांव हैं। यहां से लगभग तीन किलोमीटर की सामान्य चढ़ाई के बाद रण की धार नामक जगह आती है। उसके बाद लगभग दो किलोमीटर का ढलान है और फिर नीचे नदी पर बने पुल से गैरोली पाताल होते हुए डोलियाधार तक सात किलोमीटर की दम फुला देने वाली खड़ी चढ़ाई। कहा जाता है कि पहले यही पुल राजजात यात्रा के समय महिलाओं के लिए आखिरी सीमा हुआ करता था। नंदा को विदा करने औरतें उस पार नहीं जाती थीं। बहरहाल, अब महिलाएं होमकुंड तक पूरी राजजात बेहिचक करती हैं।

इनकी धुनी तो कहीं भी रम जााएगी
इनकी धुनी तो कहीं भी रम जााएगी

जब बेदनी जाने की धुन हो तो ऊंचाई नाप ही ली जाती है। लेकिन आपकी अपनी यात्रा धार्मिक श्रद्धा से प्रेरित न हो तो इतने मुश्किल रास्तों पर लोगों को नंगे पैर चढ़ते देख खासी हैरानी होती है। मेरे लिए बेदनी-रूपकुंड ट्रैक की यह पहली चढ़ाई थी। साथ ही यह अंदाजा भी था कि जिस भारी तादाद में लोग राजजात यात्रा में शामिल होकर ऊपर जा रहे हैं, उसमें इन जगहों की प्राकृतिक खूबसूरती को उस शिद्दत के साथ महसूस कर पाना मुमकिन नहीं होगा। हकीकत भी यही थी। अस्थायी हैलीपेड से दिन में दसियों उड़ानें भरता हेलीकॉप्टर, घास के ढलानों पर पसरी पड़ी सैकड़ों टेंटों की कई सारी कॉलोनियां, ठौर-ठिकाना न मिलने पर नारेबाजी करते श्रद्धालु- लगता नहीं था कि हम 12 हजार फुट की ऊंचाई पर हैं। बेदनी पहुंचते-पहुंचते हुई भारी बारिश ने पहले ही हालत पतली कर दी थी।

ब्रह्मकमल तोड़कर ले जाते यात्री
ब्रह्मकमल तोड़कर ले जाते यात्री

इसीलिए आली जाने का और भी मन था क्योंकि बेदनी को उसके मूल रूप में देखना दूभर था। इतनी ऊंचाई पर इतने लोगों के एक साथ पहुंचने का यह डर तो है ही। चमोली के एडीएम और राजजात यात्रा के लिए नियुक्त मेला अधिकारी एम.एस. बिष्ट का कहना था कि सरकारी अनुमानों के अनुसार बेदनी में 20 से 25 हजार के लगभग यात्री पहुंचे होंगे। इतने लोगों का एक साथ रुकना, उनके लिए (हजारों) टेंट जमीन में गाढ़े जाना, उनके लिए चाय-नाश्ते, खाने-पीने के इंतजाम करना, उठना-बैठना, पूजा-पाठ, शौच-नित्य कर्म… फिर उनके आने-जाने के लिए रास्ते तैयार करना- उस जगह के हाल की कल्पना की जा सकती है। एक पड़ाव से दूसरे पड़ाव के बीच के रास्ते पर फैलने वाला कचरा अलग। उसपर भी मुश्किल यह थी कि बेदनी से ऊपर बगवाबासा का इलाका ब्रह्मकमल व फेनकमल से भरा है और सब तरफ जड़ी-बूटियां फैली पड़ी हैं। पहाड़ के लोग कई बूटियां पहचानते भी हैं। ऐसे में दुर्लभ फूलों और जड़ी-बूटियों को नोचकर अपने झोलों व बैगों में भरकर ले जाने वालों की भी तादाद कम न थी। ऊपर रूपकुंड में बिखरे पड़े सदियों पुराने रहस्यमय नरकंकाल सैलानियों, यात्रियों के लिए ट्रॉफी की तरह हो जाते हैं- कुछ उन्हें तमगे की तरह साथ रख लेते हैं, कुछ उनके साथ सेल्फी खींचने को बेताब रहते हैं। इसलिए वे कुंड में अपनी मूल जगह से दूर अलग-अलग कोनों पर चट्टानों पर विविध डिजाइन में सजे नजर आते हैं।

ऑली से इंद्रधनुषीय नजारा
ऑली से इंद्रधनुषीय नजारा

खैर, बेदनी में फुर्सत की शाम का फायदा उठाते हुए आली बुग्याल तक जाने की एक वजह यह भी थी कि बेदनी में कोई मोबाइल नेटवर्क काम नहीं कर रहा था और आली में उसके मिलने की उम्मीद थी। आली जाने वाला हम चार-पांच साथियों के अलावा और कोई न था। रास्ता आसान था। रिमझिम बारिश ने माहौल तो खूबसूरत कर दिया था लेकिन कैमरों को भी भीतर रहने के लिए मजबूर कर दिया था। अचानक बारिश थोड़ी हल्की हुई, दूर पश्चिम में क्षितिज में डूबते सूरज की हल्की सी रोशनी चमकी और देखते ही देखते पूरब का बादलों ढका आसमान इंद्रधनुषी रंगों में नहा गया। अरसे बाद दोहरा इंद्रधनुष देखा और अरसे बाद पूरा इंद्रधनुष देखा जो नजरों के सामने आसमान के पूरे विस्तार में एक छोर से दूसरे छोर तक अपनी प्रत्यंचा ताने हुए था। मेरे लिए पूरी नंदा राजजात यात्रा का सबसे खुशनुमा पल वही था।

Photo of the day- A colony in clouds

A tent colony in clouds or on the edge of a cliff! A scene not common,considering the fact that this is at an altitude of almost 13 thousand feets, deep inside one of the most beautiful Himalayan interiors and at one of the most fascinating meadows- Bedni Bugyal. Not so common scene also because it would be next seen at least after 12 years, when next Nanda Devi Rajjat Yatra takes place. Only then again thousands of pilgrims (this time they were more than 20 thousand) will be reaching here and so many tents would be needed to accommodate them. A magnificent sight terrifying at the same time!!

Colony in clouds

Photo of the day – Wildfire or…

Seems like a distant wildfire. Isn’t it! Few other sunrises can be compared to this view. This is one of the best places to admire the beauty of a sunrise and a sunset as well- Kausani in Kumaon region of Uttarakhand. But this photo tells only the half of the story, when one knows that just in front of you is a panoramic view of 360 kms of snow-clad Himalayan ranges including Chaukhambha, Trishul and Nanda Devi. Truly, a beauty unparalleled.

Kausani-Sunrise

Traditional dance of Garhwal- Jhora at Waan

Jhora at WaanTraditional folk dance at Waan during Nanda Devi Rajjaat Yatra 2014. Last inhabitated village on Rajjaat route towards Bedini Bugyal, Waan is famous for its Latu temple. Latu is considered to be brother of Goddess Nanda Devi. Here onwards Latu leads the Yatra till Homkund.

The video here is of traditional ‘Jhora’ in Nanda Devi’s praise by men & women in traditional attire. Most special are women ornaments,  these ornaments also reflect their social status. Sung in local dialect, group of men first recite a couplet, which is repeated by the women folk. This can go on for hours, the flow of words and rhythm (steps as well) of dance keep on changing, but tempo remains the same.

Normally it is a slow paced dance. People keep on joining or moving out of the sequence as per their convenience. Men and women dance and move in a same circle formation but as two different groups. Men will never hold hands of women during the dance. Such ‘Jhoras’ are now a rarity, seen only in times of Yatra or big religious festivals.